फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 30 जुलाई 2010

तुम : कृष्ण कुमार यादव

'सप्तरंगी प्रेम' ब्लॉग पर आज प्रेम की सघन अनुभूतियों को समेटती कृष्ण कुमार यादव जी की एक कविता 'तुम'. आज आकांक्षा जी का जन्मदिन भी है, सो यह प्यार भरी कविता पतिदेव कृष्ण कुमार जी की तरफ से आकांक्षा जी के लिए..आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा !!


सूरज के किरणों की
पहली छुअन
थोड़ी अल्हड़-सी
शरमायी हुयी
सकुचायी हुयी
कमरे में कदम रखती है
वही किरण
अपने तेज व अनुराग से
वज्र पत्थर को भी
पिघला जाती है
शाम होते ही
ढलने लगती हैं किरणें
जैसे कि अपना सारा निचोड़
उन्होंने धरती को दे दिया हो
ठीक ऐसे ही तुम हो।



********************************************************************************
कृष्ण कुमार यादव : एक परिचय- सम्प्रति भारत सरकार में निदेशक. प्रशासन के साथ-साथ साहित्य, लेखन और ब्लागिंग के क्षेत्र में भी प्रवृत्त। जवाहर नवोदय विद्यालय-आज़मगढ़ एवं तत्पश्चात इलाहाबाद विश्वविद्यालय से 1999 में राजनीति-शास्त्र में परास्नातक. देश की प्राय: अधिकतर प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं एवं इंटरनेट पर वेब पत्रिकाओं व ब्लॉग पर रचनाओं का निरंतर प्रकाशन. व्यक्तिश: 'शब्द-सृजन की ओर' और 'डाकिया डाक लाया' एवं युगल रूप में सप्तरंगी प्रेम, उत्सव के रंग और बाल-दुनिया ब्लॉग का सञ्चालन. इंटरनेट पर 'कविता कोश' में भी कविताएँ संकलित. 50 से अधिक पुस्तकों/संकलनों में रचनाएँ प्रकाशित. आकाशवाणी और दूरदर्शन पर प्रसारण. कुल 5 कृतियाँ प्रकाशित -'अभिलाषा'(काव्य-संग्रह,2005), 'अभिव्यक्तियों के बहाने' व 'अनुभूतियाँ और विमर्श'(निबंध-संग्रह, 2006 व 2007), 'India Post : 150 Glorious Years'(2006),'क्रांति-यज्ञ : 1857-1947 की गाथा'.विभिन्न सामाजिक-साहित्यिक संस्थाओं द्वारा शताधिक सम्मान और मानद उपाधियाँ प्राप्त. व्यक्तित्व-कृतित्व पर 'बाल साहित्य समीक्षा'(सं. डा. राष्ट्रबंधु, कानपुर, सितम्बर 2007) और 'गुफ्तगू' (सं. मो. इम्तियाज़ गाज़ी, इलाहाबाद, मार्च 2008 द्वारा विशेषांक जारी. व्यक्तित्व-कृतित्व पर एक पुस्तक 'बढ़ते चरण शिखर की ओर : कृष्ण कुमार यादव' (सं0- दुर्गाचरण मिश्र, 2009) प्रकाशित.


30 टिप्‍पणियां:

वाणी गीत ने कहा…

आकांक्षा जी को बहुत बधाई ...
सुन्दर कविता ..!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

आकांक्षा डी को जन्मदिन की की शुभकामनाएँ!
--
सुन्दर रचना के लिए
भाई कृष्णकुमार यादव जी को बधाई!

Ram Shiv Murti Yadav ने कहा…

बहुत खूबसूरती से लिखी कविता...बधाई.

Ram Shiv Murti Yadav ने कहा…

आकांक्षा,
तुम जियो हजारों साल.
साल के दिन हों पचास हजार.
...जन्मदिन के अवसर पर ढेरों शुभकामनायें और आशीर्वाद . आपकी कलम से यूँ ही प्रखर रचनाधर्मिता निरंतर प्रवाहित होती रहे ...

Sunil Kumar ने कहा…

dar rachna aur janm din ki badhai sath sath

Amit Kumar Yadav ने कहा…

जैसे कि अपना सारा निचोड़
उन्होंने धरती को दे दिया हो
ठीक ऐसे ही तुम हो।

...बेहतरीन भाव..प्यार की सुन्दर अनुभूति...बधाई.

Amit Kumar Yadav ने कहा…

आकांक्षा जी को जन्मदिन की अंनत बधाइयाँ. आपकी रचनाधर्मिता प्रथम दृष्टया ही प्रभावित करती है.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.....

vandan gupta ने कहा…

आकांक्षा डी को जन्मदिन की शुभकामनाएँ!
सुन्दर अभिव्यक्ति.

Unknown ने कहा…

सूरज के किरणों की
पहली छुअन
थोड़ी अल्हड़-सी
शरमायी हुयी
....बड़ी मासूमियत से लिख दिया आपने प्रेम का वो अल्हड पल...मनभावन. के.के. जी को इस शानदार प्रस्तुति पर बधाई.

Unknown ने कहा…

यह कविता आकांक्षा जी को समर्पित कर आपने इसकी महत्ता आज के दिन और भी बढ़ा दी. आकांक्षा जी को जन्म-दिन की कोटिश: शुभकामनायें और बधाई. आप अपने व्यक्तिगत जीवन में, कार्य-क्षेत्र में, साहित्यिक गतिविधियों में निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर हों और नए आयाम रचें.

Unknown ने कहा…

आकांक्षा जी आपके जन्मदिन पर हमने भी एक पोस्ट 'ताक-झांक' ब्लॉग पर पोस्ट की है. उसे देखिएगा और अपनी प्रतिक्रिया भी दीजियेगा. http://tak-jhank.blogspot.com/2010/07/blog-post_30.html

KK Yadav ने कहा…

मेरी कविता को सराहने के लिए आप सभी का आभार.

KK Yadav ने कहा…

आकांक्षा को बार-बार जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें और प्यार.

S R Bharti ने कहा…

खूबसूरत भावाभिव्यक्ति.....आकांक्षा मैडम को जन्मदिन की बधाइयाँ.

Shyama ने कहा…

आकांक्षा जी को जन्मदिन पर हार्दिक शुभकामनायें. आप के लिए यह दिन अत्यन्त सुखद हो, शुभ हो, मंगलकारी व कल्याणकारी हो, नित नूतन उँचाइयों की ओर ले जाने वाला हो.

Shyama ने कहा…

बहुत खूबसूरती से कृष्णकुमार यादव जी लिखी कविता...बधाई.

editor : guftgu ने कहा…

बहुत सुन्दर पोस्ट. आकांक्षा जी को जन्मदिन पर मुबारकवाद.

Shahroz ने कहा…

नजर न लगे, क्या प्यार है ..भावनाएं हैं...वाकई जीवन की खूबसूरती यही है..शानदार कविता के. के. यादव साहेब.

Shahroz ने कहा…

आकांक्षा जी को जन्मदिन की खूब बधाइयाँ, पर केक कहाँ है हमारा.

Dr. Brajesh Swaroop ने कहा…

कृष्ण जी की खूबसूरत अभिव्यक्ति आकांक्षा जी के लिए...जन्मदिन की बधाई स्वीकार करें.

शरद कुमार ने कहा…

बेहतरीन लिखा आपने...जन्मदिन की शुभकामनायें.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

आज तो बहुत बढ़िया दिन है. सुबह से ही केक और चाकलेट मिल रहे हैं..ये दिन बार-बार आए. ममा को जन्मदिन पर खूब प्यार, Hug & Kisses.

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

बहुत बढ़िया रहा यह उपहार!
--
मेरा मन सरस झोंका!
सरस चर्चा में गुनगुन करती आई गुनगुन

sanu shukla ने कहा…

umda abjivyakti...!!

Akanksha Yadav ने कहा…

जन्मदिन पर प्राप्त ढेरों बधाई और आप सभी के स्नेह से अभिभूत हूँ...अपना स्नेह इसी तरह सदैव बनाये रहें.

सादर,

आकांक्षा

वीरेंद्र सिंह ने कहा…

आकांक्षा जी ko meri taraf se bhi janam di ki badhaai .......

Ye rachna bhi bahut hi sunder hai.

divya naramada ने कहा…

आकांक्षा अगर न जीवन में तो,
कौन जी सकेगा जी भर?
गर कृष्ण न हों तो बोल 'सलिल'
कैसे हो कर्म बहा सीकर?
आकांक्षा का हो जन्म दिवस
तो आना होगा कृष्ण तुम्हें.
ग्वालों के सँग 'हैप्पी बर्थ डे'
भी गाना होगा कृष्ण तुम्हें.
आकांशा मीरां-राधा है.
आकांक्षा रुक्मिणी-भाभा भी.
चेहरे पर जो दिखती अरुणिम
आकांक्षा है वह आभा भी.

अनंत-अशेष शुभ कामनाएँ
Acharya Sanjiv Salil

http://divyanarmada.blogspot.com

Ashish (Ashu) ने कहा…

वाह सर जी मान गये आप्को..वाकई लाजवाब लिखा हॆ..एक सीक्रेट बात कहू आपकी कविता को मॆने अभी से याद कर लिया हॆ आखिर कल को मुझे भी उनके जन्मदिन पर कुछ अनमोल ऒर प्यारी भेंट देनी होगी ऒर इससे अनमोल ऒर होगा जिसमे भावनाये हिलोरे ले रही हॆ..

KK Yadav ने कहा…

@ Ashu,
अभी से इतने समझदार हो गए हो...बहुत आगे जाओगे.