फ़ॉलोअर

सोमवार, 2 अगस्त 2010

प्यार, प्यार और प्यार !!

'सप्तरंगी प्रेम' ब्लॉग पर आज प्रेम की सघन अनुभूतियों को समेटती मुकेश कुमार सिन्हा जी की कविता 'प्यार, प्यार और प्यार'. आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा...

न आसमान को मुट्ठी में,
कैद करने की थी ख्वाइश,
और न, चाँद-तारे तोड़ने की चाहत!
कोशिश थी तो बस,
इतना तो पता चले की,
क्या है?
अपने अहसास की ताकत!!
इतना था अरमान!
की गुमनामी की अँधेरे मैं,
प्यार के सागर मैं,
धुधु अपनी पहचान!!
इसी सोच के साथ,
मैंने निहारा आसमान!!!
और खोला मन को द्वार!
ताकि कुछ लिख पाऊं,
आखिर क्या है?
ढाई आखर प्यार!!
पर बिखर जाते हैं,
कभी शब्द तो कभी,
मन को पतवार!!!
रह जाती है,
कलम की मुट्ठी खाली हरबार!!!!
फिर आया याद,
खुला मन को द्वार!
कि किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!
किसी के नाम के साथ,
किसी कि नाम के खातिर!
प्यार, प्यार और प्यार !!
*************************************************************************
मुकेश कुमार सिन्हा झारखंड के धार्मिक राजधानी यानि देवघर (बैद्यनाथधाम) का रहने वाला हूँ! वैसे तो देवघर का नाम बहुतो ने सुना भी न होगा,पर यह शहर मेरे दिल मैं एक अजब से कसक पैदा करता है, ग्यारह ज्योतिर्लिंग और १०८ शक्ति पीठ में से एक है, पर मेरे लिए मेरा शहर मुझे अपने जवानी की याद दिलाता है, मुझे अपने कॉलेज की याद दिलाता है और कभी कभी मंदिर परिसर तथा शिव गंगा का तट याद दिलाता है,तो कभी दोस्तों के संग की गयी मस्तियाँ याद दिलाता है..काश वो शुकून इस मेट्रो यानि आदमियों के जंगल यानि दिल्ली मैं भी मिल पाता. पर सब कुछ सोचने से नहीं मिलता और जो मिला है उससे मैं खुश हूँ.क्योंकि इस बड़े से शहर मैं मेरी दुनिया अब सिमट कर मेरी पत्नी और अपने दोनों शैतानों (यशु-रिशु)के इर्द-गिर्द रह गयी है और अपने इस दुनिया में ही अब मस्त हूँ, खुश हूँ.अंतर्जाल पर जिंदगी की राहें के माध्यम से सक्रियता.

26 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!
--
मुकेशकुमार सिन्हा जी को बधाई!

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

sundar abhivyakti,

sinhaji ko badhai

http://sanjaykuamr.blogspot.com/

Shah Nawaz ने कहा…

मुकेश कुमार सिन्हा जी की बेहतरीन कविता और उनके शहर, झारखंड के धार्मिक राजधानी यानि देवघर (बैद्यनाथधाम) के बारे में जानकार अच्छा लगा.

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

Dhanyawad "Saptrangi Prem" ka jo unhone hamaree ek kavita ko jagah diya............tahe-dil se shukriya.......:)

Neelam ने कहा…

आखिर क्या है?
ढाई आखर प्यार!!
पर बिखर जाते हैं,
कभी शब्द तो कभी,
मन को पतवार!!!
रह जाती है,
कलम की मुट्ठी खाली हरबार!!!!
फिर आया याद,
खुला मन को द्वार!
कि किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!

jee Mukesjh jee..pyaar kiya nahi jata sirf jiya jata hai..behadd umda abhivyakti.
dil se badhai sweekar karen.

geet ने कहा…

mukeshji
bahut hi achche kavita likhe hai sach hai kaha hai kiya nahi jata pyar jiya jata hai pyar kese ke naam ke sath. ye sahi hai ek dum.

putul ने कहा…

प्यार की भावना में भींगे हैं शब्द तुम्हारे...बहुत खूब अभिव्यक्ति है कि..प्यार को महसूस किया जा सकता है पर शब्दों मैं उतारा नहीं जा सकता ...यह एक अहसास है, आभास है . ..चाहत है ...

Udan Tashtari ने कहा…

अरे, देवघर तो हम हर भारत यात्रा में जाते हैं हमारे गुरु जी ठाकुर श्री श्री अनुकूल जी महाराज का राधा स्वामी सत्संग वहीं है.

ρяєєтii ने कहा…

waah waah waah,,,,

Kya baat hai... Bahut khub Dost Mama...!

बेनामी ने कहा…

कि किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!
किसी के नाम के साथ,
किसी कि नाम के खातिर!
प्यार, प्यार और प्यार !!
प्यार एक अहसाह है प्यार नाम है जिम्मेदारियों का,किसी के सुख और खुशी के लिए जीने का.प्यार का अर्थ है किसी को समझना,किसी की मुस्कराहटो पर निसार होना.वो कोई भि हो सकता है पत्नी,बच्चे,दोस्त,देश मोहल्ला,खुद हम या हमारे मम्मी पापा.
प्यार असीम और अपरिमित है और ईश्वर का दूसरा नाम प्यार है.पूजा,आराधना,श्रद्धा,कर्म-कांड सब व्यर्थ हैं यदि प्यार ना हो.
यही सब तो तुम भि कहना चाहते हो ना?
पर मात्राओं की गलतियाँ खूब कर रखी है. एक बार वापस पढ़ कर एडिट करके पुनः पोस्ट करो इसी कविता को.

वाणी गीत ने कहा…

कि किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!
किसी के नाम के साथ,
किसी कि नाम के खातिर!
प्यार, प्यार और प्यार !!

प्यार तो यही होता है यदि सच्चा हो तो ...
सुन्दर ..!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

डॉ रजनी मल्होत्रा नैय्यर (लारा) ने कहा…

मुकेश जी कुछ व्यस्त रही हूँ इसीलिए आपके ब्लॉग पर नहीं आ पा रही thi.
प्रेम ,प्यार, अनुराग ये सब एक मीठी अनुभूति है , जो सबके जीवन में एक बार जरुर ही आता है.
एक पंक्ति मेरी ओर से जो मेरी ही एक कविता की टुकड़ी है.

मेरे अंदर भी अनुराग छाया है,
मैंने भी जीवन में अनुराग को पाया है.
हर किसी के जीवन में ये आग जलता है ,
पर खुशनसीबों को ही अनुराग मिलता है.

shikha varshney ने कहा…

bahut hi sundar shabdon mei piroyi hai rachna ..bahut abdhai mukesh ji.

Dr. Zakir Ali Rajnish ने कहा…


इतना प्यार कहाँ रखोगे मेरे भाई?

…………..
स्टोनहेंज के रहस्यमय पत्थर।
क्या यह एक मुश्किल पहेली है?

anilanjana ने कहा…

अंतर्मन की सुन्दर अभिव्यक्ति.''मैंने निहारा आसमान!!!और खोला मन का द्वार!''
प्रेम एक सुखद सार्थक सौगात है ऊपर वाले की.. प्रेम में समपर्ण..प्यार की पवित्रता का ही द्योतक है ..तभी तो प्यार किया नहीं जाता जिया जाता है .संसार की सभी विभूतियाँ विलुप्त होकर पुनः प्राप्त की जा सकती है ..लेकिन प्यार..ये प्रेम रस अगर एक बार सुख जाये तो जीवन में उसका पुनः प्रवाह असंभव है ..ये एक ऐसा भाव जो गूंगे के फल की तरह है.. चाहो तो भी शब्दों की सीमा में बंधना..संभव नहीं..बस जिया जाता है...
एक सुन्दर विषय..और उसपे से दिल से निकली सीधे आवाज़...बधाई के पात्र फिर से बनाने के लिए काफी है

Mithilesh dubey ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

mukesh ji,
in panktiyon mein hin jiwan ka sabhi sach samet diya aapne...

कि किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!
किसी के नाम के साथ,
किसी कि नाम के खातिर!

sundar prastuti, badhai aapko.

Akanksha Yadav ने कहा…

बहुत खुबसूरत भाव...सुन्दर कविता..बधाई.

रंजना ने कहा…

प्रेम की सुगंधि लिए बहुत ही कोमल ,मोहक रचना...

कुछेक टंकन त्रुटि रह गयी है रचना में,कृपया इसे सुधार लें...

www.dakbabu.blogspot.com ने कहा…

सिर्फ प्यार.प्यार और प्यार....इसके आगे क्या कहें. शानदार रचना..मुकेश जी को बधाई.

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

Dhanyawad Dr. Shashtri, Sanjay jee, Shahnawaj jee, Neelam, .........mujhe protsahit karne ke liye bahut bahut dhanyawad!!

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

Geeta! Putul! bas koshish kari hai shabdo me samtne kee..........:)lekin safal nahi ho sakta kyonki pyar shado me bandhne se upar ki baat haai..:)

Sameer sir!! sahi farmaya aapne ham aapke Anukul Thakur ke shahar ke rahne wale hain........:)

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

Preeti,............:)

Indu Di! aapki pyari baato ka sadaiv muujhe intzaar rahta hai......aap sach me dil ko chhune wali baaten batate ho..........thanx!

Vani jee, Sangeeta Di........dhanyawad........tahe dil se!

Rajni jee, der hi sahi.........chalega, waise aapki likhi panktiyan jaandaar hain..:)

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

Shikha, Jakir bhai, mithilesh jee, jenny jee, Akanksha jee, Ranjana jee, Yadav jee..........aap sabko dil se shukriya hausla afjai ke liye.......:)

Anjana di! Aapke shabd mujhe har samay utprerit karte hain, kuchh karne ke liye...........thanx!

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

Last me ek baat aur

meri ye kavita Rashmi Prabha Di dwara sankalit "Anmol Sanchayan" me prakashit ho chuki hai......:)